Tuesday, January 31, 2023
Home अपराध Covid-19 संकट के दौरान गरीबी और काम की कमी के कारण असम...

Covid-19 संकट के दौरान गरीबी और काम की कमी के कारण असम में एक प्रवासी मजदूर ने अपनी 15 दिन की बेटी को 45,000 रुपये में बेचा

- Advertisement -

(Front News Today)  Covid-19 संकट के दौरान गरीबी और काम की कमी के कारण असम में एक प्रवासी मजदूर ने अपनी 15 दिन की बेटी को 45,000 रुपये में बेच दिया, लेकिन पुलिस ने बच्चे को बचा लिया। मानव तस्करी के आरोप में पुरुष और दो महिलाओं को गिरफ्तार किया गया है।
कोकराझार जिले के वन ग्राम, धंतोला मंडारिया के निवासी दीपक ब्रह्मा हाल ही में गुजरात से लौटे थे, जहाँ उन्होंने एक मजदूर के रूप में काम किया था। मानव तस्करी के खिलाफ काम करने वाले एक एनजीओ के एक अधिकारी के अनुसार, वह बेरोजगार था और अपने परिवार का गुजारा करना मुश्किल था।
,इन कठिन समय के दौरान, ब्रह्मा की पत्नी ने लड़की को जन्म दिया,उनकी बड़ी बेटी एक साल की है, नेडान फाउंडेशन के अध्यक्ष दिगंबर नारज़री ने कहा। “ब्रह्मा ने महामारी के दौरान एक नौकरी खोजने की कोशिश की, लेकिन इसके द्वारा गुजारा मुश्किल था।ब्रह्मा ने नवजात शिशु को बेचने का फैसला किया,” उन्होंने कहा। 2 जुलाई को अपनी बेटी को महज 45,000 रुपये में दो महिलाओं को बेच दिया लेकिन अपनी पत्नी को अंधेरे में रखा। बाद में इसके बारे में पता चलने पर ब्रह्मा की पत्नी और ग्रामीणों ने कोचुगांव पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई।
पुलिस ने कहा, “शिकायत मिलने पर, पुलिस ने कार्रवाई करते हुए दो बहनों से बच्चे को बचाया। हमने उस व्यक्ति (ब्रह्मा) को भी गिरफ्तार कर लिया।” पूछताछ के दौरान, दोनों महिलाओं ने दावा किया कि उन्होंने बच्चे को उनसे संबंधित एक निःसंतान दंपति के लिए खरीदा था।
“हम वास्तव में बच्चे को बचाने के लिए पुलिस के आभारी हैं। लेकिन यह मुद्दा बहुत गंभीर प्रकृति का है। तालाबंदी के कारण गरीब लोगों के पास कोई काम नहीं है। वन गांवों में रहने वालों के लिए स्थिति खराब हो रही है,”

- Advertisement -

Stay Connected

1,058FansLike
374SubscribersSubscribe

Must Read

आगरा ताइक्वांडो के लिए शानदार रहा 2022 !

आगरा,उत्तर प्रदेश : वर्ष 2022 आगरा ताइक्वांडो के लिए शानदार रहा यहाँ के एक दर्जन से अधिक महिला व पुरुष खिलाड़ियों ने राष्ट्रीय...

हरियाणा की राजनीति में 17 सूत्रीय संघर्ष समिति रचेगी इतिहास: करतार भड़ाना

फरीदाबाद:-(GUNJAN JAISWAL) हरियाणा सरकार के पूर्व कैबिनेट मंत्री करतार सिंह भड़ाना के 17 सूत्रीय मांगो की चर्चा हरियाणा प्रदेश के हर जिले और कस्बों...

धूमधाम से मनाया जाएगा 74 वां गणतंत्र दिवस समारोह : विक्रम सिंह

- 74 वें गणतंत्र दिवस समारोह की तैयारियों को लेकर डीसी ने अधिकारियों को सौंपी जिम्मेदारी - कहा, जिस विभाग को जो भी दायित्व मिला है उसे पूरी...

निरंकारी सत्गुरु का नववर्ष पर मानवता को दिव्य संदेश

ब्रह्मज्ञान का ठहराव ही जीवन में मुक्ति मार्ग को प्रशस्त करता है- निरंकारी सत्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज                 दिल्ली:- “ब्रह्मज्ञान की प्राप्ति से जीवन में वास्तविक भक्ति का आरम्भ होता है और उसके ठहराव से हमारा जीवन भक्तिमय एंव आनंदित बन जाता है।“...

Related News

आगरा ताइक्वांडो के लिए शानदार रहा 2022 !

आगरा,उत्तर प्रदेश : वर्ष 2022 आगरा ताइक्वांडो के लिए शानदार रहा यहाँ के एक दर्जन से अधिक महिला व पुरुष खिलाड़ियों ने राष्ट्रीय...

हरियाणा की राजनीति में 17 सूत्रीय संघर्ष समिति रचेगी इतिहास: करतार भड़ाना

फरीदाबाद:-(GUNJAN JAISWAL) हरियाणा सरकार के पूर्व कैबिनेट मंत्री करतार सिंह भड़ाना के 17 सूत्रीय मांगो की चर्चा हरियाणा प्रदेश के हर जिले और कस्बों...

धूमधाम से मनाया जाएगा 74 वां गणतंत्र दिवस समारोह : विक्रम सिंह

- 74 वें गणतंत्र दिवस समारोह की तैयारियों को लेकर डीसी ने अधिकारियों को सौंपी जिम्मेदारी - कहा, जिस विभाग को जो भी दायित्व मिला है उसे पूरी...

निरंकारी सत्गुरु का नववर्ष पर मानवता को दिव्य संदेश

ब्रह्मज्ञान का ठहराव ही जीवन में मुक्ति मार्ग को प्रशस्त करता है- निरंकारी सत्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज                 दिल्ली:- “ब्रह्मज्ञान की प्राप्ति से जीवन में वास्तविक भक्ति का आरम्भ होता है और उसके ठहराव से हमारा जीवन भक्तिमय एंव आनंदित बन जाता है।“...

बेरोजगारो की बारात का न्योता देने दादरी पहुंचे नवीन जयहिन्द

*मुख़्यमंत्री द्वारा खेल मंत्री का बचाव, बेशर्मी की हद - नवीन जयहिन्द* चरखी दादरी । जैसा कि आप जानते है कि नवीन जयहिन्द ऐलान कर...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

three − 1 =