Saturday, January 28, 2023
Home बोल रे कवि बोल चिरईं का दाना

चिरईं का दाना

- Advertisement -

चिरईं ने बहुत ही मशक्कत और मेहनत के बाद पाया था
दाल का एक दाना
वह दाना भी जा गिरा था
दुर्भाग्य से
एक खूँटे की दरार में
उसने दाना को दुबारा पाने के लिए
की पहले ख़ूब आरजू -मिन्नत
खूँटे से ही
पर जैसा कि अक्सर होता है
वह खूँटा भी
बेईमान निकला
चिरईं पाने के लिए इंसाफ़
बढ़ी आगे और एक बढ़ई से कहा कि
खूँटे को दंडित करो
ताकि मिले मेरी मेहनत का दाना
जो अपने धारदार वसूले से
काट रहा था
गुट्ठल -गिरहदार लकड़ी
बढ़ई भी गया मुकर
फिर क्या था चिरईं ने
बिना देर किए
राजा के दरबार में लगाई गुहार
राजा ने भी बढ़ई को
बक़्श दिया
उसे दंडित करने की बात तो
बहुत दूर की बात थी
चिरईं राजा की फ़रियाद लेकर
रानी के पास गई
रानी भी चुप रहीं
राजा के नाम पर
चिरईं बहुत आक्रोश में थी
वह पहुँच गई फन काढ़े
गेहुँअन साँप के पास
कहा कि रानी ने इंसाफ़ नहीं किया
पूरा सुनाया पिछला क़िस्सा
कहा उससे कि रानी को डँसो
ताक़ि खुले राजा की
आँखों की पट्टी
मिले मेरा इंसाफ़
साँप भी सच में दोमुँहा ही हुआ
साबित
अनसुनी कर दी
चिरईं की बात
चिरईं अब पहुँची डंडे के पास
कहा उससे पिछला हाल
डंडे को कहा कि
मेरे साथ आओ
इंसाफ़ पाने की मुहिम में
हो जाओ शामिल
चलकर पीटो
फन काढ़े गेहुँअन साँप को
डंडा भी डरा हुआ था
बेबस था
था लाचार
किसी ताक़तवर या दबंग के इशारे पर ही
चलता था
करता था किसी पर
वार पर वार
इतने के बाद भी चिरईं
न रुकी
न विचलित हुई
न तनिक निराश
इंसाफ़ पाने की उसकी इच्छा
होती गयी बलवती
वह आगे
आग के पास गयी
और पूरा वृतांत सुनाकर
डंडे को भस्मीभूत कराना चाहा
पर आग में शेष नहीं बची थी
आग
आग के ख़िलाफ
चिरईं गयी समुद्र के पास
समुद्र चुप रहा
दिखा तटस्थ
चिरईं के पास राजा राम की तरह
तीर-धनुष नहीं था
कि वह डरता
चिरईं ने बिना विश्राम के
जारी रखा
अपना सफ़र इंसाफ़ का
वह विशालकाय श्यामवर्ण हाथी के पास
जाकर बोली
कि चलो सोख लो
बेईमान और जड़बुद्धि समुद्र को
जैसा कि चलन था
उस दौर में
किसी बेबस…
ग़रीब के लिए पाना इंसाफ़
था बेहद मुश्किल
हाथी भी भाग खड़ा हुआ … तो
चिरईं गयी जाल के पास
जाल भी पड़ा रहा
निश्चेष्ट …
अंत में थक -हारकर चिरईं गयी
एक निबल चूहे के पास
चूहा सहर्ष तैयार हो गया
बिना वक़्त गँवाये
कहा चलकर काटेंगे
जाल को
गुदरी -गुदरी बना डालेंगे
कमबख़्त को…
उसकी बता देंगे
औकात
फिर तो चूहे से डरकर
जाल ने कहा कि
छानेंगे विशालकाय श्यामवर्ण हाथी को
हाथी तैयार हुआ जब डरकर जाल से
सोखने को समुद्र
तो समुद्र ने कहा भयभीत होकर कि
चलो चिरईं चलकर बुझाते हैं
दुष्ट आग को
आग तैयार हुआ डरकर
जब डंडे को जलाने के लिए
तो डंडा तत्पर होकर निकल पड़ा
पीटने के लिए
गेहुँअन साँप को
गेहुँअन साँप ने डरकर पहले तो
प्रणाम किया
डंडे को
और निकल पड़ा
रनिवास की तरफ़
रानी को डँसने
रानी ने चीखकर साँप को
ठहरने के लिए कहा
और चिरईं को दिलाने इंसाफ़
पहुँची राजदरबार में
राजा ने कहा कि जब बात
इतनी संगीन है और
रानी को अचानक आना पड़ा
दरबार में तो वे ज़रूर बढ़ई को कहेंगे कि
जाकर अपने धारदार वसूले से
फाड़ दो खूँटा बाँस का
जिसमें फँसा है
चिरईं की मेहनत का दाना
दाल का
बढ़ई को देखते ही
भय से खूँटा तैयार हो गया
ख़ुद से फटने के लिए …
इस तरह चिरईं ने पाया
अपना दाना मेहनत का
पाया इंसाफ़ …
और फुर्र होकर निकल पड़ी
अपने घोंसले की तरफ़
जहाँ उसके चूजे दाने के इंतज़ार में थे
भूख से व्याकुल होकर !

निखिल आनंद गिरि

- Advertisement -

Stay Connected

1,058FansLike
374SubscribersSubscribe

Must Read

आगरा ताइक्वांडो के लिए शानदार रहा 2022 !

आगरा,उत्तर प्रदेश : वर्ष 2022 आगरा ताइक्वांडो के लिए शानदार रहा यहाँ के एक दर्जन से अधिक महिला व पुरुष खिलाड़ियों ने राष्ट्रीय...

हरियाणा की राजनीति में 17 सूत्रीय संघर्ष समिति रचेगी इतिहास: करतार भड़ाना

फरीदाबाद:-(GUNJAN JAISWAL) हरियाणा सरकार के पूर्व कैबिनेट मंत्री करतार सिंह भड़ाना के 17 सूत्रीय मांगो की चर्चा हरियाणा प्रदेश के हर जिले और कस्बों...

धूमधाम से मनाया जाएगा 74 वां गणतंत्र दिवस समारोह : विक्रम सिंह

- 74 वें गणतंत्र दिवस समारोह की तैयारियों को लेकर डीसी ने अधिकारियों को सौंपी जिम्मेदारी - कहा, जिस विभाग को जो भी दायित्व मिला है उसे पूरी...

निरंकारी सत्गुरु का नववर्ष पर मानवता को दिव्य संदेश

ब्रह्मज्ञान का ठहराव ही जीवन में मुक्ति मार्ग को प्रशस्त करता है- निरंकारी सत्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज                 दिल्ली:- “ब्रह्मज्ञान की प्राप्ति से जीवन में वास्तविक भक्ति का आरम्भ होता है और उसके ठहराव से हमारा जीवन भक्तिमय एंव आनंदित बन जाता है।“...

Related News

आगरा ताइक्वांडो के लिए शानदार रहा 2022 !

आगरा,उत्तर प्रदेश : वर्ष 2022 आगरा ताइक्वांडो के लिए शानदार रहा यहाँ के एक दर्जन से अधिक महिला व पुरुष खिलाड़ियों ने राष्ट्रीय...

हरियाणा की राजनीति में 17 सूत्रीय संघर्ष समिति रचेगी इतिहास: करतार भड़ाना

फरीदाबाद:-(GUNJAN JAISWAL) हरियाणा सरकार के पूर्व कैबिनेट मंत्री करतार सिंह भड़ाना के 17 सूत्रीय मांगो की चर्चा हरियाणा प्रदेश के हर जिले और कस्बों...

धूमधाम से मनाया जाएगा 74 वां गणतंत्र दिवस समारोह : विक्रम सिंह

- 74 वें गणतंत्र दिवस समारोह की तैयारियों को लेकर डीसी ने अधिकारियों को सौंपी जिम्मेदारी - कहा, जिस विभाग को जो भी दायित्व मिला है उसे पूरी...

निरंकारी सत्गुरु का नववर्ष पर मानवता को दिव्य संदेश

ब्रह्मज्ञान का ठहराव ही जीवन में मुक्ति मार्ग को प्रशस्त करता है- निरंकारी सत्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज                 दिल्ली:- “ब्रह्मज्ञान की प्राप्ति से जीवन में वास्तविक भक्ति का आरम्भ होता है और उसके ठहराव से हमारा जीवन भक्तिमय एंव आनंदित बन जाता है।“...

बेरोजगारो की बारात का न्योता देने दादरी पहुंचे नवीन जयहिन्द

*मुख़्यमंत्री द्वारा खेल मंत्री का बचाव, बेशर्मी की हद - नवीन जयहिन्द* चरखी दादरी । जैसा कि आप जानते है कि नवीन जयहिन्द ऐलान कर...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

one × 4 =