Thursday, September 29, 2022
Home देश कारगिल विजय दिवस

कारगिल विजय दिवस

- Advertisement -

(Front News Today) 26 जुलाई 1999 इस दिन को कारगिल विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है। दरअसल, यह तारीख भारतीय सेना के शौर्यवीर के अदम्य पराक्रम की गाथा की गवाही है। कारगिल युद्ध की शुरूआत पाकिस्तान ने की थी, 3 मई 1999 को युद्ध शुरू हुआ था और भारत ने युद्ध का अंत 26 जुलाई 1999 को करीब 3 महीनें बाद किया। इस युद्ध को हर भारतवासी गर्व के साथ हर साल याद करता है।इससे पहले हम आपको कारगिल युद्ध में भारतीय सेना के सूरवीर जवानों के बलिदान को बताने जा रहे हैं। भारतीय सेना ने कारगिल में करीब 18 हजार फीट की ऊंचाई पर पाकिस्तानी सेना को मात देकर अपना तिरंगा लहराया था। युद्ध में भारत व पाकिस्तान दोनों तरफ के जवानों की शहादत हुई। भारत ने करीब 527 सैनिकों को खोया और 1300 से ज्यादा सैनिक घायल हुए, जबकि पाकिस्तान के अनुसार उनके 357 सैनिक इस युद्ध में मारे गए थे। वहीं 665 से ज्यादा सैनिक घायल हुए थे। इसकी जानकारी पाकिस्तानी सेना की वेबसाइट ने दिया था। भारत ने पाकिस्तानी सैनिकों के मारे जानें की एक रिपोर्ट पेश की थी जिसमें कहा गया था कि पाकिस्तान के करीब 1000-1200 सैनिकों की इस युद्ध में मौत हुई थी। 200 सैनिकों को तो भारत में ही दफना दिया गया था। हालांकि पाकिस्तान इस रिपोर्ट को हमेशा नकारता रहा है। पाकिस्तानी सेना के करीब 5000 सैनिकों ने अंतर्राष्ट्रीय कानून का उल्लंघन करते हुए 3 मई 1999 को कारगिल के ऊंची पहाड़ियों पर कब्जा कर लिया था। इस बात की सूचना भारतीय सेना को एक चरवाहे ने दी थी कि पाकिस्तान ने कारगिल पर कब्जा कर लिया है। भारतीय सेना जब पेट्रोलिंग करने गई तो उन्हें पकड़ लिया गया व 5 जवानों की हत्या कर दी गई। पाकिस्तानी सेना ने भारतीय पोस्ट को तहस नहस कर दिया था। भारतीय सेना ने इस बात की जानकारी जब सरकार को दी तो सेना को पाकिस्तानी सैनिकों को खदेड़ने का आदेश दिया गया। इस दौरान सेना ने ऑपरेशन विजय के तहत कार्रवाई की। भारतीय वायुसेना (Indian Airforce) की ओर से पाकिस्तान को खदेड़ने के लिए मिग-27 (Mig-27) व मिग-29 (Mig-29) का इस्तेमाल किया गया। इस अभियान में लेफ्टिनेंट नचिकेता (Lieutenant Nachiketa) को पाकिस्तान (Pakistan) ने बंदी बना लिया। पाकिस्तान ने जहां कब्जा किया था, उन ठिकानों पर भारतीय वायुसेना ने बमबारी किया। इस दौरान आर-77 मिसाइलों के जरिए हमला किया गया। पाकिस्तान ने भारतीय विमान मिग-17 को मार गिराया था, जिसमें हमारे 4 फौजी शहीद हो गए थे। कारगिल युद्ध का घटनाक्रम

  • 3 मई को एक कश्मीरी चरवाहे ने भारतीय सेना को बताया कि पाकिस्तानी सेना ने कारगिल पर कब्जा कर लिया है।
  • 5 मई को भारतीय सेना जब पेट्रोलिंग करने गई तो उन्हें पकड़ लिया गया व 5 जवानों की हत्या कर दी गई।
  • 27 मई को भारतीय वायुसेना की ओर से पाकिस्तान को खदेड़ने के लिए मिग-27 व मिग-29 का इस्तेमाल किया गया।
  • 5 जून को भारतीय सेना ने पाक रेंजर्स द्वारा कब्जा किए जानें की सूचना भारतीय मीडिया को दी। भारत के अखबारों में यह खबर तहलका मचा दी।
  • 6 जून से भारतीय सेना ने पूरी ताकत से पाकिस्तान पर हमला करने का मन बना लिया। 9 जून को बाल्टिक की 2 चौकियों पर भारत ने तिरंगा फहराया।
  • 11 जून को भारत ने जनरल परवेज मुशर्रफ व पाकिस्तानी सेना के अध्यक्ष जनरल अजीज खान के बातचीत का आडियो रिकॉर्डिंग पूरी दुनिया के सामने जारी किया और बताया कि इस नापाक हरकत में पाक आर्मी का ही हाथ है।
  • 13 जून को भारतीय सेना ने द्रास सेक्टर में तोलिंग पोस्ट पर पाकिस्तानी सेना को खदेड़कर तिरंगा फहराया।
  • 15 जून को भारत-पाकिस्तान के युद्ध में अमेरिका को हस्तक्षेप करना पड़ा। अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने परवेज मुशर्रफ से फोन पर कहा कि अपनी सेना को कारगिल सेक्टर से जल्दी से हटा दें।
  • 29 जून को भारतीय सेना के सूरवीरों ने टाइगर हिल के पास की दो पोस्ट पर फिर से तिरंगा लहराया। ये पोस्ट भारतीय नजरिए से महत्वपूर्ण थी इसीलिए इसे जल्दी कब्जा किया गया। इन दोनों पोस्ट का नाम है 5060 व 5100 ।
  • भारतीय सेना ने पाकिस्तान का मनोबल तोड़ कर रख दिया था। 2 जुलाई के दिन भारतीय सेना के जवानों ने कारगिल को तीनों तरफ से घेर लिया। दोनों देशों के तरफ से खूब गोलीबारी, बमबारी हुई। सैनिक भी शहीद हुए। हालांकि अंततः टाइगर हिल पर भारत ने तिरंगा लहराया। भारत ने धीरे-धीरे सभी पोस्टों पर कब्जा जमा लिया और अमेरिका को इस बात की सूचना दी।
  • तत्कालिन प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेई ने देश की जनता से ऑपरेशन विजय की जीत की घोषणा की। बाद में जवानों की शहादत के याद के तौर पर 26 जुलाई को हर साल कारगिल विजय दिवस के रूप में मनाने का घोषणा किए।

- Advertisement -

Stay Connected

1,058FansLike
375SubscribersSubscribe

Must Read

CUET 2022 परिणाम: MRIS 14, फरीदाबाद की छात्रा ख़ुशी शर्मा हरियाणा में अव्वल और भारत में बारह, 100 पर्सेंटाइल स्कोरर में से एक हैं

खुशी ने हरियाणा राज्य में CUET'22 में टॉप किया है5 विषयों में सिर्फ 12 छात्रों ने 100 पर्सेंटाइल हासिल किए, खुशी उनमें से एक...

राष्ट्रीय प्रतीक व देवी देवताओं चित्र वाले पटाखे प्रतिबंध हो- अक्षय भंडारी

Front News Today: मप्र, राजगढ़(धार)। राजगढ़ (धार) नगर के युवा समाजिक कार्यकर्ता अक्षय भंडारी ने राष्ट्रीय प्रतीक व देवी देवताओं चित्र वाले पटाखे प्रतिबंध...

एडीबी के वाइस प्रेसिडेंट ने किया दुहाई डिपो में स्थित ‘अपरिमित’, सेंटर ऑफ इनोवेशन का उद्घाटन

Front News Today (नई दिल्ली): एशियन डेवलेपमेंट बैंक (एडीबी) के वाइस प्रेसिडेंट, श्री शिक्सिन चेन ने अपने एक-दिवसीय दौरे में दुहाई डिपो में स्थापित...

आजादी के 75वें अमृत महोत्सव समाज में योगदान देने वालों को मिलेगा विशेष सम्मान, स्वतंत्रता दिवस

Faridabad: फरीदबाद की समाजसेविका राधिका बहल को स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष में फरीदाबाद सेक्टर 12 खेल परिसर में स्वतंत्रता दिवस समारोह में माननीय श्री...

Related News

CUET 2022 परिणाम: MRIS 14, फरीदाबाद की छात्रा ख़ुशी शर्मा हरियाणा में अव्वल और भारत में बारह, 100 पर्सेंटाइल स्कोरर में से एक हैं

खुशी ने हरियाणा राज्य में CUET'22 में टॉप किया है5 विषयों में सिर्फ 12 छात्रों ने 100 पर्सेंटाइल हासिल किए, खुशी उनमें से एक...

राष्ट्रीय प्रतीक व देवी देवताओं चित्र वाले पटाखे प्रतिबंध हो- अक्षय भंडारी

Front News Today: मप्र, राजगढ़(धार)। राजगढ़ (धार) नगर के युवा समाजिक कार्यकर्ता अक्षय भंडारी ने राष्ट्रीय प्रतीक व देवी देवताओं चित्र वाले पटाखे प्रतिबंध...

एडीबी के वाइस प्रेसिडेंट ने किया दुहाई डिपो में स्थित ‘अपरिमित’, सेंटर ऑफ इनोवेशन का उद्घाटन

Front News Today (नई दिल्ली): एशियन डेवलेपमेंट बैंक (एडीबी) के वाइस प्रेसिडेंट, श्री शिक्सिन चेन ने अपने एक-दिवसीय दौरे में दुहाई डिपो में स्थापित...

आजादी के 75वें अमृत महोत्सव समाज में योगदान देने वालों को मिलेगा विशेष सम्मान, स्वतंत्रता दिवस

Faridabad: फरीदबाद की समाजसेविका राधिका बहल को स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष में फरीदाबाद सेक्टर 12 खेल परिसर में स्वतंत्रता दिवस समारोह में माननीय श्री...

पथवारी मंदिर में धूमधाम से मनाया गया ऐतिहासिक रक्षाबंधन पंखा मेला

फरीदबाद:- (अनुराग शर्मा) ओल्ड फरीदाबाद स्थित प्राचीन पथवारी मंदिर में सैकड़ों वर्ष पुराना ऐतिहासिक रक्षाबंधन मेले में मुख्य अतिथि के रूप में राज्यसभा सांसद...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

three × two =