आर्य विद्या मंदिर सीनियर सेकेंडरी स्कूल बल्लभगढ़ में महिला थाना बल्लबगढ़ की टीम ने 1800 छात्र छात्राओं को साइबर क्राइम, महिला विरुद्ध अपराध, नशे के दुष्परिणाम और डायल 112 ऐप के संबंध में जगरुक कर दी जानकारी

0
0

फरीदाबाद- डीसीपी बल्लबगढ़ राजेश दुग्गल के द्वारा दिए गए दिशा निर्देश के तहत कार्रवाई करते हुए महिला थाना बल्लभगढ़ प्रबंधक निरीक्षक गीता के द्वारा आर्य विद्या मंदिर सीनियर सेकेंडरी स्कूल में अध्यापकगण और छात्र-छात्राओं को महिला विरुद्ध अपराध, साइबर क्राइम, नशे के दुष्परिणाम और डायल 112 ऐप के बारे जानकारी देते हुए जागरुक किय है।

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि हरियाणा उदय प्रोग्राम के तहत फरीदाबाद पुलिस लगातार लोगो व बच्चो को जागरुक कर रही है। इसी के चलते आज बल्लभगढ़ के आर्य विद्या मंदिर सीनियर सेकेंडरी स्कूल में अध्यापकगण के साथ करीब 1800 छात्र-छात्राओं को
जागरुक किया है। जिसमें इस प्रकार है-

साइबर क्राइम-

वर्तमान समय में बढ़ रहे साइबर फ्रॉड मामले में देखा गया है कि आरोपी पीडितो को कुछ मिनट में ही लोन देने के लिए, घर बैठे लोन उपलब्ध करवाने का लालच देती हैं और फर्जी ऐप डाउनलोड करता दे, क्रेडिट कार्ड की लिमिट बढवाने के नाम पर, घर बैठे कमाने का लालच, फ्री गिफ्ट, लॉटरी लगना के नाम पर,वाउचर जीतने के नाम पर,KYC के नाम पर, बैंक कर्मी बनकर, विदेश भेजने के नाम पर,जाब दिलाने के नाम पर,अश्र्लील वीडियो कॉल रिकॉर्ड से ब्लैकमेल कर,एईपीएस इत्यादी के नाम पर लोगो के साथ साइबर फ्रॉड किया जाता है। आगर आपके साथ कोई फ्रॉड होता है तुरंत साइबर हेल्पलाइन 1930 पर शिकायत दर्ज करे। उन्हें अपने साथ हुई साइबर ठगी के बारे में जानकारी दें। साइबर टीम द्वारा साइबर अपराधियों के बैंक खातों को फ्रीज करवाने पर शिकायतकर्ता का पैसा वापस मिल जाता है ।

महिला सुरक्षा-

महिला थाना प्रबंधक गीता ने बताया कि विद्यार्थी इस सामाजिक जीवन में अपने आसपास महिला विरुद्ध अपराध को देखते है जिसमें महिला/ लडकी से छेडछाड, लडकी/बच्चो को शोषण, दहेज प्रथा इत्यादि। बच्चे छोटे होते है जिनको ज्ञान नहीं होता कि छेडछाड, लडकी/बच्चो को शोषण व दहेज लेना कानूनन अपराध है। इसके साथ ही छात्राओं को गुड व बैड टच के संबंध में जागरूक करते हुए बताया कि यदि किसी व्यक्ति ने गलत तरीके/नियत से स्पर्श करने की कोशिश करता है तो उसके बारे में अपने परिजनों को बताएं क्योंकि यदि आप इसका विरोध नहीं करेंगे तो आरोपी फिर से इस प्रकार की अपराधिक वारदात को पुनः दुवारा से गलत हरकत करने की कोशिश करेगा। उन्होंने बताया कि पहले इस बात के बारे में बहुत कम जानकारी होती थी कि गुड टच बैड टच क्या होता है परंतु आजकल इसके प्रति जागरूकता अभियान चलाकर विद्यार्थियों/छात्राओं को इसकी जानकारी दी जा रही है इसलिए यदि कोई भी व्यक्ति उन्हें गलत तरीके से किसी लडकी को छूने की कोशिश करता है तो चुप रहकर इसे सहन ना करे इसके संबंध में परिजनों के माध्यम से पुलिस को सूचित करे। समाज की कुरुतियों से हम सबको एकजुट होकर लड़ाई लड़ें ताकि समाज में महिला सुरक्षा को बढ़ावा दिया जा सके।

डायल 112 ऐप-

दुर्गा शक्ति टीम ने बताया कि डायल 112 की गाड़ियों पर किसी भी प्रकार की सूचना मिलने पर डायल 112 पुलिस टीम गाड़ी 10 से 15 मिनट में मौके पर पहुंचेगी और समस्या का समाधान करेगी साथ ही जैसे किसी एक्सीडेंट की सूचना मिलती है तो डायल 112 की गाड़ी में फर्स्ट एड किट भी मौजूद रहती है जिससे कि घायल व्यक्ति का प्राथमिक उपचार किया जा सके। इसके साथ ही निरीक्षक ने मौजूद छात्राओं को डायल 112 इंडिया डाउनलोड और संचालन करना सिखाया।

नशा के दुष्परिणाम

इसके साथ ही उन्होंने नशे के दुष्परिणाम के बारे में जागरूक किया। नशा एक खरतनाक बीमारी है। जिससे युवाओं की जिंदगी बर्बाद हो जाती है। और वह क्राइम के रास्ते पर चल पड़ते हैं। जिसकी वजह से ही परिजनों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। अगर कोई नशा करता है तो उसकी सूचना तुरतं पुलिस को दे। दोषी पर कार्यवाही की जाएगी व नाम गुप्त रखा जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here