जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाने के बाद की स्थिति

0
92

(Front News Today/Rudra Prakash) 5 अगस्त 2019 के दिन भारतीय राज्य व्यवस्था के सबसे बड़ा दिन है क्योंकि इसी दिन जम्मू कश्मीर को एक विशेष अधिकार देने वाले प्रावधान को हटाया गया था और 5 अगस्त को 1 साल पूरा हो गया है हम जानते हैं कि 1 साल बाद वहां की फिजाओं में क्या बदली है इससे आतंकवाद को लेकर
5 अगस्त को सरकार द्वारा जम्मू कश्मीर को दो भागों में बांटा गया यह फैसला तो 5 अगस्त 2020 को ले लिया गया था जैसे यह फैसला लिया गया कई सारे आशंका तथा चेतावनी भारत को मिलने लगी विशेषकर पाकिस्तान ने कहा कि हम इस फैसले के खिलाफ है भारतीय को क्यों हटाया और इतना फैसला बड़ा फैसला क्यों लिया उसने कहा कि इससे क्षेत्र में अशांति होगी खून खराबा होगा
370 हटाने के कुछ दिन बाद सितंबर 2009 को हमारे राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार श्री अजीत डोभाल जी ने कहा कि लगभग 200 के करीब आतंकवादियों जो कश्मीर में प्रवेश करना चाहते हैं और इस फैसले के खिलाफ कश्मीर लोगों को बढ़ाना चाहता और आतंकवाद को फैलाना चाहते हैं और भारत विरोधी गतिविधियों को बढ़ाना चाहते हैं 370 हटाने के बाद बहुत सारे संगठन जमात-ए-इस्लामी रहे थे हमारे सुरक्षा बलों ने इनको इनके कमांडो को मार गिराया उसी में एक है रियाज नैकू बुरहान वानी आधे कमांडो को जहन्नुम पहुंचाया गया इस संगठन में काफी आघात पहुंचा और कश्मीर में इनके पैर उखाड़ ने लगे क्षेत्रों में इन कमांडरों को मार गिराया गया और संगठन प्रवीण प्रभावहीन होने लगा है
दूसरी बात आतंकवादी हमलों में भारी गिरावट देखने को मिल रही है 370 हटने के बाद कश्मीर में आतंकवादी हमला पत्थरबाजी पाकिस्तान में आईएसआई झंडा दिखाना आम बात हो गई थी इससे वहां के लोग दहशत के माहौल में जी रहे थे 370 हटाने के बाद सरकार ने अलगाववादियों को जेल पहुंचाया कश्मीर में अशांति हराने के लिए बहुत सारे पैसा इनको बाहर से मिलता था इनके खातों को फ्रीज किया गया नेताओं को नजरबंद कर दिया गया
हमारे सुरक्षा बल कश्मीर में लगातार आतंकी आतंकियों को जहन्नम पहुंचा रही है जिससे वहां के वहां पर दहशत का माहौल कम होने लगा है और दहशतगर्दी भी कम हो रही हैसरकार इस क्षेत्र में विकास रोजगार युवाओं को मुख्यधारा में लाने का प्रयास करना चाहिए यह सब हो सकता है जब क्षेत्र में मानव शांति रहे और सरकार इसके लिए प्रयास भी कर रही है औद्योगिक इकाइयां लगाने का काम हो रहा है और साधन बढ़ रहे हैं और कश्मीर के लोगों को भारत में के बारे में जानने और समझने का अवसर मिल रहा है सरकार को यहां पर संचार व्यवस्था को सही करने का प्रयास करना चाहिए जो हमेशा बाधित रहता है फिलहाल यहां पर 2G नेटवर्क काम कर रहा है इसको सरकार अपग्रेड कर 4G सेवा में कन्वर्ट करना चाहिए संचार सेवा सुचारू रूप से चल सके और लोग इंटरनेट का सदुपयोग कर सके डिजिटल इंडिया को बढ़ावा मिले साथ ही राजनीतिक स्तर पर भी ध्यान देना होगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here